समस्या यह है:

हम सभी ने यह पहले सुना है - धरती गरम हो रही है, CO2 का स्तर बढ़ रहा है, और हम छठे सामूहिक विलोपन (एंथ्रोपोसीन विलोपन) के बीच में हैं। हम दो समान रूप से गंभीर मुद्दों का सामना कर रहे हैं - जैव विविधता हानि और जलवायु परिवर्तन। दोनों का न केवल मनुष्य के रूप में हम पर, बल्कि ग्रह के प्रत्येक जीवित प्राणी और पारिस्थितिकी तंत्र पर अभूतपूर्व गंभीर परिणाम हो रहे हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि मानवीय गतिविधियाँ इन परिवर्तनों को पैदा कर रही हैं।

जैव विविधता का नुक्सान और सामूहिक विलुप्ति

हम सीधे तौर पर इंसानों की जीवन शैली, निष्कर्षण अर्थव्यवस्थाओं और उपभोग के स्तर के कारण 1 मिलियन से अधिक प्रजातियाँ के नुकसान का सामना कर रहे हैं। 'जैव विविधता के जनक' ई.ओ. विल्सन का अनुमान है कि हम प्रति वर्ष 27,000 प्रजातियाँ खो रहे हैं, या हर 19 मिनट में एक प्रजाति - यूनाइटेड नेशंस की अपनी जैव विविधता परिषद के अनुसार एक रूढ़िवादी अनुमान है जो इसे हर दिन 150 पर रखता है। हमारी ग्रह प्रणालियाँ संपूर्ण के हिस्से के रूप में एक साथ काम करती हैं - जब एक हिस्सा प्रभावित होता है, तो इसका डोमिनो की तरह प्रभाव हो सकता है, जिसका संपूर्ण के सभी हिस्सों पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है। वनों की कटाई से पृथ्वी की प्राकृतिक रूप से कार्बन संग्रहित करने की क्षमता कम हो रही है; कच्चे माल की निकासी और कृषि प्राकृतिक स्थानों को नष्ट कर रही है; बीमारियाँ और आक्रामक प्रजातियाँ व्यावसायिक मार्गों से फैल रही हैं; और अत्यधिक दोहन कई प्रजातियों को विलुप्त होने की ओर ले जा रहा है।

जैसे-जैसे हम प्राकृतिक दुनिया - पृथ्वी की जीवन समर्थन प्रणालियों - को नष्ट करना जारी रखते हैं, हम जंगली प्रजातियों से बीमारी फैलने का जोखिम उठाते हैं, जिससे कोविड-19 जैसी और अधिक महामारियों की संभावना बनी रहती है।

ये गतिविधियाँ अधिक लोगों को जानवरों के संपर्क और संघर्ष में लाकर महामारी का कारण बनती हैं, जिससे 70% उभरती हुई मानव बीमारियाँ उत्पन्न होती हैं...अनकही मानवीय पीड़ा और दुनिया भर में अर्थव्यवस्थाओं और समाजों को रोक देती हैं। महामारी के उद्भव में यह मानवीय हाथ है। फिर भी [कोविड-19] केवल शुरुआत हो सकती है।
- The Guardian

जैव विविधता का नुकसान बहुत अधिक प्रभावित करता है - हमारी खाद्य प्रणालियाँ, आर्थिक प्रणालियाँ, अत्यधिक मौसम की स्थिति में लचीलापन। एस्पिरिन से लेकर कई कैंसर उपचारों तक, सभी दवाओं में से 50% से अधिक जो सक्रिय नैदानिक उपयोग में हैं, वह अपूरणीय प्राकृतिक स्रोतों से आते हैं का उपयोग करते है , वैज्ञानिकों का मानना है कि अनगिनत और अनदेखे दवाएं अमेज़ॅन और पूर्वी एशिया के जंगलों जैसे जैव विविधता से समृद्ध स्थानों में हमारा इंतजार कर रही हैं। आवासों को नष्ट करके हम अपना भविष्य ही नष्ट कर देते हैं।

जलवायु परिवर्तन और CO2 स्तर

पिछले 4 दशकों में से प्रत्येक दशक पिछले की तुलना में अधिक गर्म रहा है, जबकि पिछले 5 वर्ष अकेले अब तक के सबसे गर्म दर्ज किए गए हैं। जलवायु परिवर्तन हमारे औद्योगिक समाज के सबसे हानिकारक प्रभावों में से एक है। 2018 में, अपने क्षेत्रों के शीर्ष विशेषज्ञों, यूनाइटेड नेशंस इंटरनेशनल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (आई पी सी सी) ने ग्रह पर 1.5 डिग्री सेल्सियस के प्रणालीगत प्रभावों पर एक विशेष रिपोर्ट जारी किया।

1.5 डिग्री बहुत ज़्यादा नहीं लगता, है ना? जब हम संपूर्ण ग्रह के बारे में बात कर रहे हैं, तो यह बहुत अधिक है। हमें 1.5 डिग्री सेल्सियस से आगे जाने की अनुमति देने के परिणाम हर स्तर पर विनाशकारी होंगे: समुद्र के बढ़ते स्तर, घातक अत्यधिक गर्मी, सूखापन और भोजन और पानी की कमी के कारण द्वीप और तटीय शहर गायब हो रहे हैं, जिससे पूरी आबादी को अपने घरों से भागने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। यह देखना कठिन नहीं है कि हमारे हाथों में एक गंभीर समस्या है। 1.5 डिग्री सेल्सियस विनाशकारी हो सकता है - हमारे स्वास्थ्य, प्रकृति, वैश्विक अर्थव्यवस्था और हमारे जीवन के तरीके के लिए।

हम जानते हैं कि औद्योगिक क्रांति के बाद से हमारे वायुमंडल में गर्मदायक ग्रीनहाउस गैस CO2 की सांद्रता में 45% की जबरदस्त वृद्धि हुई है, मुख्य रूप से मानवीय गतिविधियों के परिणामस्वरूप - बिजली पैदा करने के लिए जीवाश्म ईंधन जलाने से, पृथ्वी को पशुधन और खाद्य उत्पादन, परिवहन प्रणालियों और औद्योगिक उपोत्पादों हेतु जंगलों से साफ करकर महत्वपूर्ण "कार्बन सिंक" से वंचित किया गया है।

यदि हमारे पास आपदा से बचने का कोई मौका है तो हमें जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता दोनों पर एक साथ ध्यान देना चाहिए।


परिवर्तन की संभावना

हम एक चट्टान पर खड़े हैं। हम जो सामना कर रहे हैं उसकी सच्चाई को स्वीकार कर सकते हैं, या फिर हम इस टालने को जारी रख सकते हैं और गर्म होते ग्रह के प्रभाव को सभी जीवित प्राणियों पर और भी अधिक हानिकारक होने की अनुमति दे सकते हैं। हम पहले से ही एक निश्चित मात्रा में गर्मी और जैव विविधता के नुकसान में फंसे हुए हैं, लेकिन इस कहानी को बदलने के लिए अभी भी समय है।

आई पी सी सी रिपोर्ट में कहा गया है कि हमें 1.5 डिग्री से अधिक की वृद्धि से बचने के लिए 2030 तक शुद्ध शून्य कार्बन उत्सर्जन तक पहुंचने की आवश्यकता है, जिससे कार्बन उत्सर्जन में भारी कमी आएगी, और हमारे रहन की विधियों में व पृथ्वी के साथ हमारी परस्पर प्रभाव में भारी बदलाव आएगा।

लेकिन पता है? कोविड-19 के खिलाफ लोगों और सरकारों की तीव्र, व्यापक एकजुटता हमें दिखाती है कि जरूरत पड़ने पर हम कितनी तेजी से चीजों में बदलाव ला सकते हैं। महामारी ने हमें दिखाया है कि समस्या के प्रति समान अनुपात में प्रतिक्रिया संभव भी है और आवश्यक भी। हमारे पास उदाहरण है; हमने देखा है कि आवश्यकता पड़ने पर हम अपने व्यवहार और आर्थिक प्रणालियों में बड़े पैमाने पर बदलाव कर सकते हैं। अब जलवायु और पारिस्थितिकी के आपातकालीन स्तिथि के तथ्यों को स्वीकार करने और उसी सोच को लागू करने का समय है - वह भविष्य जो तेजी से हमारी ओर बढ़ रहा है उसका शमन और उससे बचने हेतु अनुकूलन। लचीली प्रणालियों का निर्माण करें, सबसे कमजोर लोगों का समर्थन करें, पुनर्योजी और वितरणात्मक अर्थव्यवस्थाओं की ओर बदलाव करें, और हमारी पारिस्थितिक सीमाओं के भीतर रहें। हम उन प्रणालियों को बदल सकते हैं जो हमें इस मुकाम तक ले आई हैं, क्योंकि हमारे पास कोई अन्य विकल्प नहीं है। हमें पृथ्वी के साथ अपने रिश्ते को फिर से स्थापित करना होगा।


एक्स आर को क्या अलग बनाता है?

हम एक अलग रास्ता बना रहे हैं। जिस दुनिया में हम रहना चाहते हैं उसे एक ऐसी संस्कृति की आवश्यकता है जो स्वस्थ, रचनात्मक, लचीली और अनुकूलनीय हो। हम कठिन विकल्पों का सामना कर रहे हैं और अब तक, हम जिस पथ पर चल रहे हैं उसे बदलने के लिए सरकारों और संस्थानों के बहुत कम प्रयासों से इन आपदाओं का सामना किया गया है।

सरकारों द्वारा जो कार्रवाई की गई है वह स्पष्ट रूप से पर्याप्त नहीं है जब आप वास्तव में समझते हैं कि हम किस भयावहता का सामना कर रहे हैं। पेरिस जलवायु समझौता को सरकारों को कठोर सामूहिक कार्रवाई के लिए प्रेरित करवाना चाहिए था। ऐसा नहीं है। हम मानते हैं कि हमारी संस्थाएं इस संकट को गंभीरता से नहीं ले रही हैं, और इसलिए हमें सहभागी लोकतंत्र और नागरिक सभाओं के माध्यम से आवश्यक साहसिक निर्णय लेने के लिए सत्ता वापस लोगों को सौंप देनी चाहिए।

एक्स आर राजनीति से परे है - हम राजनीतिक रेखाओं या सांस्कृतिक रेखाओं से बंधे नहीं है, जैसे जलवायु और पारिस्थितिकी की आपातकालीन स्तिथि भी उन्हीं रेखाओं को पार करती है। हम विशेष सरकारों या विशेष राजनीतिक दलों का समर्थन नहीं करते हैं।

एक्स आर की तीसरी मांग हमें अलग बनाती है - "सरकारों को जलवायु और पारिस्थितिक इंसाफ हेतु नागरिक सभाओं का निर्माण करना चाहिए और उन्हें उनके निर्णयों के नेतृत्व में होना चाहिए।" दुनिया भर में नागरिक सभाएँ उन मुद्दों से निपट रही हैं जिन्हें राजनेता छूने को तैयार नहीं हैं या डरते हैं। उन्हें समाधान तय करने में मदद करने के लिए संरचित किया गया है, और हम सामूहिक रूप से संकट का सामना करने के लिए आवश्यक व्यवस्थित अनुकूलन को विज्ञान द्वारा बताई गई समय-सीमा पर कैसे पूरा करेंगे इसमें मदद करने हेतु इनका निर्माण हुआ है।

नागरिक सभा किसी मुद्दे पर जांच करने, चर्चा करने और सिफारिशें करने के लिए जीवन के सभी क्षेत्रों से रोजमर्रा के लोगों को एक साथ लाती है। सभा के सदस्यों को लॉटरी प्रक्रिया में चुना जाता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे किसी राजनीतिक दल या विशेष हित के प्रति आभारी नहीं हैं, और यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे वास्तव में पूरे देश को प्रतिबिंबित करते हैं। इसका मतलब यह है कि कोई भी नागरिक सभा को देख सकता है और ऐसे लोगों को देख सकता है जो उनके जैसे दिखते हैं, उनके जैसे रहते हैं और अपनी चिंताओं को साझा कर सकते हैं। कुशल सुविधाप्रदाताओं की सहायता से, रोजमर्रा के लोगों का यह प्रतिनिधि समूह विशेषज्ञों और हितधारकों की एक विस्तृत श्रृंखला से जानकारी के माध्यम से काम करता है। वे विभिन्न विचारों और रायों की माध्यम से बात करते हैं और बीच रास्ता ढूंढते हैं।

दुनिया भर में नागरिक सभाओं का उपयोग उन महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करने के लिए किया जाता है जिनसे राजनेता विमुख हैं, या सीधे तौर पर छूने से डरते हैं। वर्तमान में फ़्रांस, ब्रिटेन और कनाडा में जलवायु और पारिस्थितिकी की आपातकालीन स्तिथिपर नागरिक सभाएँ हो रही हैं।


आप एक्स आर हैं

विलुप्ति विद्रोह जीवन के सभी क्षेत्रों, विभिन्न पृष्ठभूमियों, संस्कृतियों और राजनीतिक संबद्धता वाले लोगों से बना है - आप जैसे लोग, एक अलग कहानी बनाने के लिए एक साथ आ रहे हैं। हम जानते हैं हम जिस संकट का सामना कर रहे हैं, और हम भविष्य को बदलना चाहते हैं। यह लड़ाई हम सभी की है और हम सभी को सच्चाई के लिए खड़े होने और मिलकर इसका सामना करने के लिए तैयार रहने की जरूरत है।

जलवायु और पारिस्थितिक संकट को हल करना किसी भी तरह से आसान नहीं है, और मानव दीर्घकालिक परिणामों पर निकट दृष्टि वाले लाभों को प्राथमिकता देने के लिए विकसित हुआ है। जलवायु और पारिस्थितिक संकट इन विरोधी मांगों की अंतिम परीक्षा है। यह एक धीमी गति से चलने वाली मालगाड़ी है, जो कुछ को प्रभावित करती है जबकि कुछ को बिल्कुल नहीं, लेकिन अंततः, यह संकट हमारी नाजुक वैश्विक अर्थव्यवस्था और परस्पर जुड़ी प्रणालियों को तोड़ देगा।

यही कारण है कि हम, विद्रोहियों के रूप में, एक साथ आए हैं कार्यवाही करने हेतु। हम इस अन्याय को पहचानते हैं - न केवल दुनिया के गरीबों के साथ, बल्कि इसके अजन्मे लोगों के साथ - कि वैश्विक उत्सर्जन का लगभग आधा हिस्सा इसकी 20% से भी कम आबादी द्वारा उत्पादित किया जाता है।

बहुत लंबे समय से, हमने प्रकृति से ज़्यादा मुनाफ़े को, लोगों से ज़्यादा आर्थिक विकास को प्राथमिकता दी है। यह हमारी प्रणालियों पर पुनर्विचार करने, लक्ष्य बदलने और पुनर्योजी संस्कृतियों की ओर स्थानांतरित होने का समय है। एक और दुनिया संभव है। हम वर्तमान में संपूर्ण अर्थव्यवस्थाओं में सुधार किया गया और प्रणाली को अपनी आंखों के सामने पुनर्निर्मित होते हुए देख रहे हैं। सामाजिक स्वास्थ्य के संकेतक के रूप में केवल आर्थिक विकास पर निर्भर रहने के पुराने तरीके अब कोई विकल्प नहीं हैं। अब समय आ गया है कि हम अपने कोविड के बाद के पुनर्निर्माण को नई प्रणालियों से जोड़ें। समानता पर आधारित प्रणालियाँ, ग्रहों की सीमाओं और पारिस्थितिक सीमा के भीतर हमारी सामाजिक नींव का समर्थन करती हैं, और जलवायु और पारिस्थितिकी की आपातकालीन स्तिथि के लक्षणों को संबोधित करने के लिए आवश्यक लचीलेपन के अनुकूल बनाई जाती हैं।


अहिंसक सविनय अवज्ञा

88 देशों में 1010 से अधिक समूहों के साथ, हम पहले से ही बदलाव ला रहे हैं। एक्स आर को सम्मोहक कानून बनाने, सरकारों को कार्रवाई करने के लिए प्रेरित करने और दुनिया भर में हमारे रचनात्मक, कलात्मक, निरंतर, अहिंसक विरोध प्रदर्शनों के माध्यम से जलवायु और पारिस्थितिक संकट पर सार्वजनिक चर्चा को स्थानांतरित करने का श्रेय दिया गया है। हम अनुसरण करते हैं उन अनेक लोगों के नक्शेकदम पर जो हमसे पहले आ चुके हैं। भारत के स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर महिला मताधिकार, नागरिक अधिकार आंदोलन से लेकर अरब स्प्रिंग तक, इतिहास ने हमें बार-बार दिखाया है कि अहिंसक विरोध परिवर्तन लाने के लिए एक शक्तिशाली साधन के रूप में काम करता है। और फिर भी, वहाँ हैं कोई गारंटी नहीं। विद्रोहियों के रूप में, हम जानते हैं कि कल की वास्तविकता आज की चिंता है। जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता के नुकसान से तबाह दुनिया ऐसी है जो हम सभी को गंभीर रूप से प्रभावित करेगी।

क्यों करे विद्रोह

हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। हम उन व्यवस्थाओं के ख़िलाफ़ विद्रोह करते हैं जिन्होंने हमें यहां तक पहुंचाया है। हम अपने इच्छित भविष्य के लिए विद्रोह करते हैं। हम विद्रोह करते हैं क्योंकि कार्रवाई करना हमारी जिम्मेदारी है।' हमारे पास बर्बाद करने के लिए और समय नहीं है। कुछ भी असंभव नहीं है - हम अभी भी वह कहानी लिख सकते हैं जो हम चाहते हैं और हम लिखेंगे। हम व्यक्तिगत तौर पर सामूहिक रूप से बदलाव ला सकते हैं। हम यह काम मिलकर करेंगे - दुनिया को बदल देंगे, स्थायी बदलाव लाएंगे और सभी के लिए बेहतर भविष्य का निर्माण करेंगे।

यह हमेशा असंभव लगता है जब तक कि पूरा न हो जाय
- Nelson Mandela